राजधानी में भारतीय किसान संघ ने भरी हुंकार, किसानों के धैर्य की परीक्षा न ले सरकार

राजधानी में भारतीय किसान संघ ने भरी हुंकार, किसानों के धैर्य की परीक्षा न ले सरकार

भारतीय किसान संघ के 13वें अधिवेशन का दूसरा दिन

राष्टीय कार्यकारिणी का आज होगा निर्वाचन

भोपाल । भारतीय किसान संघ के अधिवेशन के दूसरे दिन किसान संघ के द्वारा विशाल शोभायात्रा का आयोजन किया गया। शोभायात्रा लाल परेड मैदान से प्रारंभ होकर एम वी एम कालेज ग्राउंड में सभा में तब्दील हुई। देष भर के 500 जिलों से आये किसान प्रतिनिधियों की सभा को सम्बोधित करते हुए भारतीय किसान संघ के अखिल भारतीय मंत्री मोहिनी मोहन  मिश्र ने सरकार को चेताते हुए कहा कि सरकार किसानों के धैर्य की परीक्षा न ले। श्री मिश्र ने आगे कहा कि केंद्र व राज्य सरकारें लागत के आधार पर लाभकारी मूल्य की व्यवस्था करे। अन्यथा देष से लेकर प्रांत तक और प्रांत से लेकर देष के चप्पे चप्पे तक किसान संघ केंद्र व राज्य सरकारों के खिलाफ जनजागरण कर वातावरण निर्माण करेगा। महिला शक्ति की  प्रतीक किसान संघ की राष्टीय उपाध्यक्ष विमला तिवारी ने सभा को संबोधित करते हुये कहा कि किसानों में वह ताकत है  कि वह किसी की भी सरकार बना सकते है ंतो उसे गिरा भी सकते हैं। किसान संघ मातृषक्ति को लेकर आगे बढ़ रहा है  और मातृषक्ति कृषि क्षेत्र में भी अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही है। भारतीय किसान संघ के राष्टीय अध्यक्ष आई एन बसबेगौंड़ा  ने सभा में कहा कि किसान संघ गैर राजनैतिक संगठन है। किसान पिछले 43 बर्षों से अपनी मांग दोहरा रहे है। अब समय आ गया है किसानों को उनकी फसल का लाभकारी मूल्य देना ही होगा। सरकारें वार्तालाप के लिये तो बुलाती है पर निर्णय न होना गंभीर बात है। 

खुले मंच पर रखी समस्यायें 
इस अवसर पर सभा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सम्पर्क प्रमुख व भारतीय किसान संघ के पालक अधिकारी रामलाल, किसान संघ के राष्ट्रीय संगठन मन्त्री दिनेश कुलकर्णी, भारतीय मजदूर संघ के राष्टीय संगठन मंत्री सुरेन्द्र सिंह जी, राष्टीय मंत्री पेरूमाल जी, गंगाधर जी, सांई रेडडी, क्षेत्रीय संगठन मंत्री महेश चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष कमल सिंह आंजना, मध्यभारत के प्रांत अध्यक्ष कैलाष सिंह ठाकुर, प्रांत महामंत्री पवन शर्मा, महाकौषल प्रांत अध्यक्ष गजराज सिंह, प्रांत महामंत्री प्रहलाद पटेल, मालवा के प्रांत अध्यक्ष रामप्रसाद सूर्या, प्रांत महामंत्री रमेष दांगी, प्रांत संगठन मंत्री मनीष शर्मा, भरत पटेल, अतुल माहेष्वरी सहित देश भर से आये किसान संघ के पदाधिकारियों की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। मंच से देष भर के विभिन्न प्रांतो से आये प्रांतो के अध्यक्षों ने अपनी क्षेत्रीय भाषा में किसान सभा को संबोधित करते हुये अपने राज्यों की समस्यायें केंद्रीय प्रतिनिधियों के सामने खुले मंच पर रखी।

निकली विषाल भव्य शोभायात्रा
दोपहर 2 बजे पुलिस परेड ग्राउंड दषहरा मैदान से देषभर के विभिन्न प्रांतो से आये किसान प्रतिनिधियों की अनुषाषित स्वरूप में विषाल शोभायात्रा भारतीय किसान संघ के द्वारा निकाली गई। शोभायात्रा में देश के 500 जिलों के 5 हजार से अधिक किसान शामिल हुये। शोभायात्रा लाल परेड ग्राउंड से होते हुये राजभवन मार्ग, रोशनपुरा चौराहा, रंगमहल टॉकीज, टी टी नगर थाना, अपैक्स बैंक, पत्रकार भवन, मालवीय नगर से होते हुए एम वी एम कॉलेज ग्राउंड पर सभा में तब्दील हुई। शोभायात्रा मार्ग में स्थान स्थान पर सामाजिक संगठनों ने पुष्प बर्षा कर स्वागत किया।

शोभायात्रा में अनेकता में एकता के दर्शन हुए 
भारतीय किसान संघ के अखिल भारतीय अधिवेशन के द्वितीय दिन शोभायात्रा का आयोजन किया गया। शोभायात्रा में देश के कोने कोने से  आये आये किसान अपनी संस्कृति के अनुसार विभिन्न वेशभूषा में शामिल हुए। शोभायात्रा में अपने अपने प्रांत का बैनर लेकर चल रहे किसान अपनी भाषा में नारों का उदघोष कर कतारबध्द चल रहे थे। शोभायात्रा में सम्पूर्ण भारत की अनेकता में एकता का दर्शन राजधानी वासियों ने किये।

बड़ी संख्या में महिला किसान शामिल

भारतीय किसान संघ के अधिवेशन में बड़ी संख्या में किसान महिलायें  शामिल हुई। शोभायात्रा के दौरान वे  अपने अपने प्रांत का बैनर लिये, विशेष परिधान में नारों का उद्घघोष करते हुए चल रही थी।  शोभायात्रा के दौरान ग्रामीण महिला किसान सशक्तीकरण का अनूठा उदाहरण देखने मिला।

मैराथन बैठकों का क्रम जारी

देश व दुनिया में किसानों के सबसे बड़े किसान संगठन भारतीय किसान संघ का तीन दिवसीय 13वां अखिल भारतीय अधिवेशन का आयोजन  महादेवी परिसर पुरानी गल्ला मण्डी में चल रहा है। अधिवेशन के द्वितीय दिन देश भर से आये किसान संघ के पदाधिकारी व किसानों के साथ विभिन्न विषयों पर मैराथन बैठकों का क्रम जारी रहा। देश भर के विभिन्न प्रान्तों के प्रांत महामंत्रीयों द्वारा अपने प्रांत के वृत्त रखे गये।