विकास की राह पर ग्राम पंचायत जनकपुर

विकास की राह पर ग्राम पंचायत जनकपुर

सागर/केसली, ग्राम पंचायत जनकपुर के बीचों-बीच से निकला नाला स्थानीय निवासियों के लिए हमेशा से ही सिरदर्द बना हुआ था। इस समस्या को लेकर सैकड़ों बार शासन-प्रशासन से गुहार लगा चुके ग्रामीणों को अब जाकर राहत मिली है। ग्राम पंचायत के प्रयास व जनपद पंचायत के सहयोग से हाल ही में नाले के सामुघाट पर रपटा का निर्माण कार्य पूरा किया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के बीचों-बीच नाला होने से बरसात और उसके बाद भी नाले में पर्याप्त जल भराव होने से ठंड़ के चार माह भी आने-जाने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता था।

समस्या से निजात पाने के लिए कई बार प्रयास किए गए, लेकिन हासिल कुछ नहीं हुआ। इसी बीच क्षेत्र के दौरे पर आए केसली जनपद अध्यक्ष अतुल भाई डेवाडिय़ा से ग्रामीणों ने इस समस्या को हल कराने की मांग की। ग्रामीणों को समस्या से निजात दिलाने के लिए जनपद अध्यक्ष की ओर से स्वीकृत की गई 14 लाख 83 हजार की राशि से नाले पर पुलिया का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। सरपंच राजेन्द्र सिंह लोधी को भी अपने कार्यकाल में नाले पर पुलिया और गांव की आंतरिक सड़कों का निर्माण कराना ही सबसे बड़ी चुनौती साबित हुई। हालांकि उन्होंने इन दोनों समस्याओं को केसली जनपद पंचायत व ग्रामीणों के सहयोग से हल करने में सफलता हासिल कर ली।

स्वच्छता की ओर बढ़ रहा गांव

किसी भी गांव के विकास में स्वच्छता और सौंदर्यीकरण का महत्वपूर्ण योगदान होता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए गांव में होने वाले सामुहिक व निजी कार्यक्रमों के दौरान फैलने वाली गंदगी व इससे होने वाली परेशानियों से बचने के लिए 3 लाख 75 हजार की लागत से स्वच्छता परिसर के साथ ही 12 लाख की लागत से एक सामुदायिक भवन का निर्माण करवाए जाने की जानकारी पंचायत सचिव बहादुर सिंह लोधी ने दी। सौंदर्यीकरण के उद्देश्य से अतुल भाई डेवाडिय़ा ने अपनी जनपद निधि से हरसिद्धि माता मंदिर में 50 हजार रुपए के कार्यों को मंजूरी दी है। साथ 11 हजार रुपए निजि तौर पर भी दान दिए हैं। पुलिया भूमि पूजन के दौरान महिलाओं से पानी की समस्या सुनकर उन्होंने हैंडपंप भी स्वीकृत किया था।

इनका कहना है
पंचायत की ओर से जल संरक्षण के लक्ष्य को लेकर जल स्रोतों के आसपास रिचार्ज सिस्टम भी बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही खेत तालाब, वृद्धावस्था पेंशन, आवास योजना सहित अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ ग्रामीणों को मिल रहा है।
पूजा जैन, सीईओ, जनपद पंचायत
गांव में पक्की सड़कें नहीं होने से वाहन चालकों के साथ ही पैदल चलने में भी परेशानी होती थी। ऐसे में जनपद ने सुदूर सड़क निर्माण योजना के माध्यम से मुख्य मार्ग से पडऱई मार्ग तक 14 लाख 35 हजार की लागत से इसी वर्ष सड़क का निर्माण कराया है। वहीं दूसरी ओर 13 लाख 55 हजार की राशि से सामुदायिक भवन से शांतिधाम मोतन तक जाने वाली सड़क का निर्माण कार्य भी करवाया गया है।
राजेन्द्र सिंह लोधी, सरपंच 
वर्ष 2020-21 में नवीन शांतिधाम के पास 6 लाख सात हजार की राशि से जनपद पंचायत की ओर से मंजूर, एक जलाशय और इसके अलावा निर्मल नीर योजना के माध्यम से एक कुंआ का निर्माण कार्य कराया गया है। तालाब बनने से कृषि भूमि का सिंचाई रकवा बढ़ गया है। बरियाघाट में सिंचाई क्षेत्र बढ़ाने के लिए 12 लाख की लागत से एक स्टापडेम बनाने की मंजूरी भी अतुल भाई डेवाडिय़ा ने प्रदान की थी। इस स्टापडेम का लाभ वर्तमान में 25 किसान ले रहें हैं और इससे 23 हेक्टेयर रकवा सिंचित किया गया है।
भरत सिंह लोधी, रोजगार सहायक