सीहोर जिले की नई पहचान बनेगी अमरुद इंडस्ट्रीज

सीहोर जिले की नई पहचान  बनेगी अमरुद इंडस्ट्रीज

सीहोर। चमकदार और सुनहरे शरबती गेहूं ने कृषि क्षेत्र में जिले को एक विशेष पहचान दी है। लेकिन अब यहां के बगीचों के खटटे-मिठी अमरुद और उससे बने उत्पाद बडे बाजरों में पहुंचेगे। निवेश के साथ ही युवाओं को रोजगार भी मिलेगा। फूड प्रोसेसिंग को बढाना देने के लिए प्रधानमंत्री सूक्ष्म खादय प्रसंस्करण योजना शुरु की गई थी लेकिन कोरोना महामारी के चलते बीते साल जिले को लक्ष्य नहीं मिले। कोरोना की रफ्तार थमने के बाद कृषि उद्यमियों के लिए विभाग ने पोर्टल ओपन कर दिया है और जिले के किसान इसमें रुचि दिखला रहे हैं, जिले में बडी मात्रा में अमरुद का उत्पादन होता है इसलिए योजना के तहत अमरुद का चयन हुआ है। अमरुद उद्योग लगाने के लिए अभी तक उद्यानिकी विभाग में करीब 50 आवेदन आ चुके हैं जिनमें से 6 किसानों के प्रकरण बैंकों को पहुंचाए जा चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि फूड प्रोसेसिंग और कृषि इंडस्ट्रीज को बढाने देने के लिए भारत सरकार द्वारा पीएमएफएमई योजना शुरु की गई है जिसके जिले में अमरुद का बगीचा रखने वाले किसानों को 30 लाख से 2 करोड तक ऋण उपलब्ध होगा। कच्चे की प्रोसेसिंग, मशीनरी, पैकेजिंग और बडे बाजारों तक माल पहुंचाने के लिए किसानों को लोन दिया जाऐगा। उद्यानिकी अधिकारी राजकुमार सगर ने बताया कि योजना में बैंक लोने के लिए गारंटर की आवश्यकता नहीं हैं। भारत सरकार द्वारा 10 लाख तक का अनुदान और बैंक ऋण पर 3 प्रतिशत तक की छूट दी जा रही है।

अमरुद का रकबा 1876, उत्पादन 6032 मीट्रिक टन

जिला उद्यानिकी अधिकारी राजकुमार सगर ने बताया कि जिले में अच्छी और उन्नत किस्म का अमरुद बडी मात्रा में पैदा होता है। सीहोर, नसरुल्लागंज और बुधनी क्षेत्र से अमरुद बाहर की मंडियों में जाता है इंदौर,भोपाल, देवास, होशंगाबाद की मंडियों में सीहोर के अमरुद को पसंद किया जा रहा है। इलाहबादी सफेदा, लखनबी 27, धारीवाला, चिठठीदार जैसे किस्मों के अच्छे दाम मिलते हैं। जिले में वर्तमान में अमरुद का कुल रकबा 1876, उत्पादन 6032 मीट्रिक टन है। सगर ने बताया कि अब किसान का उत्पाद बडे बाजारों तक पहुंचेगा और जिले में युवाओं को रोजगार भी मिलेगा।